नवग्रह बीज मंत्र को सुनने मात्र से हो जाते हैं हर दुःख और कष्ट दूर

नवग्रह बीज मंत्र
नवग्रह बीज मंत्र

आज का हमारा यह अध्याय काफी विशेष है क्योंकि आज के इस अध्याय में हम आप सभी के लिए नवग्रह बीज मंत्र (navgrah beej mantra) का चमत्कारी और शक्तिशाली मंत्र लेकर आए हैं जिसे आप रोज़ सुन भी सकते है, यह नवग्रह बीज मंत्र इतना शक्तिशाली है कि अगर आप नियमित रूप से प्रतिदिन सिर्फ 21 बार भी इस मंत्र का जाप करते हैं या इसे सुनते है तो आपके कुंडली के सारे ग्रह प्रसन्न होते हैं और आपके भाग्योन्नति में मदद मिलती हैं। आमतौर पर ऐसा देखा गया है कि इंसान अपनी बुरी परिस्थिति के लिए अपनी किस्मत को दोष देता है जबकि हमारी किस्मत हमारे ग्रह निर्धारित करते हैं और हमारे ग्रह हमारी किस्मत को हमारे कर्म के अनुसार ही निर्धारित करते हैं और उसी के अनुसार हमें फल देते हैं।

बदकिस्मती दूर करने के उपाय. भाग्योदय के लिए अचूक टोटके

नवग्रह बीज मंत्र का महत्व

हर इंसान की किस्मत या भाग्य उसके जन्म के समय ही लिखी जाती है हमारे जन्म के समय हमारी कुंडली में हमारे नौ ग्रहों की स्थिति दर्शाती है कि हमारा भाग्य कैसा होगा और किस तरह का हमारा व्यक्तित्व होगा, कुछ ग्रह कुंडली में ऐसे होते हैं जो हमें विशेष लाभ पहुंचाते हैं पर कुछ ग्रह हमारे कर्मों के आधार पर हमें नुकसान भी पहुंचाते हैं। जिस किसी भी जातक की कुंडली में ग्रहों का दोष होता है हमारी सलाह उनको यही होगी कि जितना अधिक हो सके सही कर्म यानि सत्कर्म करें और यथासंभव जब भी समय मिले कुंडली के ग्रहों को प्रसन्न करने के लिए उनके मंत्र या बीज मंत्र का जाप अवश्य करें.

शायद आप ना जानते हो कि जब हम सो रहे होते हैं तब भी हमारे कुंडली के नवग्रह हमारे कर्मों के आधार पर हमारे भाग्य लिखते हैं. आज जो मंत्र हम प्रस्तुत करने जा रहे हैं वह नवग्रह बीज मंत्र है जो अति शक्तिशाली है अगर आप इसका उच्चारण नहीं कर सकते हैं तो इसके सुनने मात्र से ही आपके कुंडली के ग्रह प्रसन्न होते हैं और आपके भाग्योन्नति में मदद मिलती है। अगर आप एक सुखद और सफलतापूर्वक जीवन जीना चाहते हैं तो हमारा आप सभी से आग्रह होगा कि रोज सुबह अपनी दैनिक दिनचर्या को पूरी करने के बाद इस बीज मंत्र को एक बार अवश्य सुने कुछ ही दिन में आप खुद इस बात को महसूस करेंगे कि आपके जीवन में परिवर्तन आने लगा है और आपके हर कार्य सफलतापूर्वक करने लगे हैं।

“असमबगशशरकन”

नवग्रह बीज मंत्र
नवग्रह बीज मंत्र को रोज़ दिन में एक बार जरूर सुने

ऊपर हमने जो मंत्र की जानकारी आपको दी है उसका नियमित रूप से मात्र 11 बार जाप करने से या सुनने ही आपके सारे ग्रह मजबूत होते हैं और आपके जीवन में खुशहाली और सफलता आती है।

नवग्रह मंत्र

नवग्रह मंत्र
नवग्रह मंत्र

हमारी दी हुई जानकारी को पढ़कर आप समझ ही गए होंगे कि नवग्रह बीज मंत्र की क्या विशेषता है और उसका उपयोग आप कैसे कर सकते हैं अपने सुनहरे भविष्य के लिए पर अगर आप ऐसी स्थिति में है जहां पर आप जानते हैं कि किस ग्रह की कमजोर स्थिति की वजह से आपकी कुंडली में दोष है तो आपकी सुविधा के लिए हम नवग्रह मंत्र यानी हर ग्रह के मंत्रों की जानकारी आपके साथ साझा करने जा रहे हैं।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मनुष्य के जीवन में समस्याएं या बदकिस्मती का आना ग्रहों की खराब दशा मानी गई है हर इंसान की कुंडली में नौ ग्रह होते हैं मंगल, बुध, गुरु, सूर्य, चंद्र, शनि, शुक्र, राहु और केतु। अगर इन सभी ग्रहों की दशा सही हुई तो इंसान के जीवन में चार चांद लग जाते हैं और अगर इन सभी ग्रहों में से किसी एक ग्रह की दशा ठीक नहीं रही तो इंसान को जीवन में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है अगर आप जानते हैं कि आपकी कुंडली में कौन से ग्रह की स्थिति कमजोर है तो आप नीचे दिए गए मंत्रों का नियमित रूप से 108 बार जाप कर सकते हैं इससे आपको संतोषजनक परिणाम मिलेंगे।

।।ऊँ ह्रीं ह्रीं ह्रौं सः सूर्याय नमः।।

सूर्य गृह का मंत्र

।।ऊँ क्रां क्रीम् क्रौं सः भौमाय नमः।।

मंगल गृह का मंत्र

।।ऊँ ज्र्रे ज्रीं ज्रौं सः गुरुवे नमः।।

गुरु गृह का मंत्र

।।ऊँ भ्राम भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः।।

राहु गृह का मंत्र

।।ऊँ द्राम द्रुम द्रौम सः शुक्राय नमः।।

शुक्र गृह का मंत्र

।।ऊँ ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः।।

बुध गृह का मंत्र

।।ऊँ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नम:।।

शनि गृह का मंत्र

।।ऊँ श्रां श्रीं श्रौं सः चन्द्राय नमः।।

चंद्र गृह का मंत्र

।।ऊँ श्रां श्रीं श्रौं सः केतवे नमः।।

केतु गृह का मंत्र

निष्कर्ष

तो यह थी ग्रहों की हर दशा को मजबूत करने के लिए नवग्रह बीज मंत्र और नवग्रह शांति मंत्र हमारा आप सभी से आग्रह होगा अगर आप हर ग्रहों के मंत्रों का जाप नहीं कर सकते तो रोज एक बार नवग्रह बीज मंत्र को अवश्य सुने इससे आपको आश्चर्यजनक परिणाम मिलेंगे और आपके जीवन में सुख, शांति, समृद्धि और सफलता आएगी।

Leave a Comment