Sankat Mochan Hanuman Ashtak, हर संकट होगी समाप्त

सिर्फ 7 दिन पढ़ लो ये Sankat Mochan Hanuman Ashtak मंत्र हर संकट होगी समाप्त, हर मनोकामना होगी पूरी|

Hanuman
Sankat Mochan Hanuman Ashtak

संकट मोचन हनुमान अष्टक (Sankat Mochan Hanuman Ashtak) जिसे हम हनुमान अष्टक (Hanuman ashtak) के नाम से भी जानते हैं यह एक भक्तिमय भजन है जो श्री हनुमान को समर्पित है। संकट मोचन हनुमान अष्टक (संकट मोचन नाम तिहारो) की रचना हनुमानजी के एक महान भक्त तुलसीदास जी ने की थी। ऐसा माना जाता है कि हनुमान अष्टक का पाठ मात्र करने से ही व्यक्ति की हर बाधा, मुश्किलें या कठिनाइयां श्री हनुमान स्वयं हर लेते हैं और अपने भक्तों की हर मुश्किलों को दूर कर देते हैं।

इसे भी पढ़े सिर्फ फोटो से करे वशीकरण |

अष्टक या अष्टकम् का शाब्दिक अर्थ है आठ और प्रार्थना में भगवान हनुमान की स्तुति में आठ छंद होते हैं और भजन दोहा के साथ समाप्त होता है। अधिकांश भगवान हनुमानजी मंदिरों में, हनुमान चालीसा / hanuman chalisa के बाद इस संकटमोचन हनुमान अष्टक का जाप किया जाता है। यह मंत्र न केवल इसका उपयोग करने वाले लोगों को लाभ पहुंचाता है, बल्कि उनके या उनके परिवार के सदस्यों को भी लाभ प्रदान करता है। यह मंत्र मानसिक विश्राम में मदद करता है और एक परिवार में शांति की भावना लाता है।

इस मंत्र का नियमित रूप से जप करने से वयस्कों और बच्चों के स्वास्थ्य की स्थिति में सुधार होता है। ऐसे मामले भी हैं जहां यह मंत्र अदालत के मामलों और मुद्दों में सकारात्मक परिणाम लाने में सफल साबित हुआ है। संकटमोचन हनुमान अष्टक का जाप किसी भी व्यक्ति या उसके प्रियजनों की सामान्य भलाई के लिए भी किया जाता है। सभी बाधाएँ आसानी से दूर हो जाती हैं और किसी एक के पसंदीदा क्षेत्र में सफलता पाने में कोई बाधा नहीं होती है। संकटमोचन हनुमान अष्टक जप एक शिक्षा में भी सफलता की गारंटी भी देता है और लोगों को उनकी इच्छा के अनुसार उच्च शिक्षा हासिल करने में मदद करता है।

इसे भी पढ़े सबसे असरदार मोहिनी वशीकरण मंत्र |

Sankat mochan
Sankat mochan hanuman ashtak benefits

Sankat mochan hanuman ashtak का महत्व –

जैसा कि आप सब जानते ही होंगे कि हनुमान जी की आराधना में हनुमान चालीसा / Hanuman chalisa, बजरंग बाण / Bajrang baan और संकट मोचन हनुमान अष्टक / sankat mochan hanuman ashtak के पाठ का बहुत ही बड़ा महत्व है संकट मोचन हनुमान अष्टक का जो भी व्यक्ति नियमित रूप से पाठ करता है उसके ऊपर घोर से घोर संकट भी श्री हनुमान हर लेते हैं।

बाल अवस्था में हनुमान जी बहुत ही शरारती थे और शुरू से ही असीमित शक्तियों के स्वामी थे, कई बार हनुमान जी देवी देवता या ऋषि-मुनियों को अपनी बाल अवस्था की शरारतों से परेशान किया करते थे जिस वजह से उन्हें एक बार एक ऋषि से श्राप भी मिला था कि वह अपनी सारी शक्तियों को भूल जाएंगे और किसी के द्वारा याद दिलाने पर ही उन्हें अपनी शक्तियों का एहसास होगा।

यह भी पढ़ेहर समस्या का समाधान है ये 06 शक्तिशाली हनुमान मंत्र

Sankat mochan hanuman ashtak का पाठ एक ऐसा पाठ है जिसके द्वारा भक्त श्री हनुमान को उनके खोए हुए शक्तियों का स्मरण कराते हैं और उनसे इस बात का आग्रह करते हैं कि वह अपने भक्तों की पीड़ा और संकट से उन्हें मुक्ति दिलाएं। जब कभी भी आप हनुमान चालीसा हनुमान अष्टक का पाठ करें तो श्री भगवान हनुमान से बार-बार इस बात का आग्रह करें कि हे प्रभु हमारे संकट हर लो और हमें हमारी पीड़ा से मुक्ति दो।

इसे भी पढ़ेप्रेमिका वशीकरण मंत्र |

Sankat mochan hanuman lyrics in hindi
Sankat mochan hanuman ashtak lyrics in hindi

Sankat mochan hanuman ashtak lyrics / संकट मोचन हनुमान पाठ

बाल समय रवि भक्षी लियो तब,

तीनहुं लोक भयो अंधियारों I

ताहि सों त्रास भयो जग को,

यह संकट काहु सों जात न टारो I

देवन आनि करी बिनती तब,

छाड़ी दियो रवि कष्ट निवारो I

को नहीं जानत है जग में कपि,

संकटमोचन नाम तिहारो I – १

बचपन में खेलने के दौरान जब आप ने सूर्य को खाने का प्रयास किया तब आप नीचे गिर गए। और सारा संसार दुख से भर गया क्योंकि आप ही उनके आशा की किरण थे। और उम्मीद के मुताबिक आप सूर्य के जिस बीमारी से पीड़ित थे उस से उबर गए, जिससे पृथ्वी के लोगों में एक नई ऊर्जा जागृत हुई। इस संसार में कौन नहीं जानता कि आपका नाम संकट मोचन हनुमान है (बाधाओं का निवारण करने वाले)। जो अपने प्रकाश (ज्ञान) द्वारा अज्ञान (अंधकार) को दूर करते हैं।

बालि की त्रास कपीस बसैं गिरि,

जात महाप्रभु पंथ निहारो I

चौंकि महामुनि साप दियो तब ,

चाहिए कौन बिचार बिचारो I

कैद्विज रूप लिवाय महाप्रभु,

सो तुम दास के सोक निवारो I – २

आप सुग्रीव को एक पर्वत में रहने के लिए कहकर बाली से रक्षा कर रहे थे, जहाँ ‘चौकी संत’ के श्राप के कारण बाली को प्रवेश करने की अनुमति नहीं थी। (जब श्री राम लक्ष्मण के साथ सीता को खोज रहे थे), सुग्रीव को संदेह हुआ कि वे सुग्रीव को बाली के निर्देशानुसार खोज रहे हैं, तब आप ब्राह्मण के रूप में प्रकट हुए, श्री राम से मिले और यहां तक कि उन्होंने बाली को भी मार दिया। इसलिए आपने एक भक्त (सुग्रीव) को उसके दुःख से छुटकारा दिलाया। इस संसार में कौन नहीं जानता कि आपका नाम संकट मोचन हनुमान है (बाधाओं का निवारण करने वाले)। जो अपने प्रकाश (ज्ञान) द्वारा अज्ञान (अंधकार) को दूर करते हैं।

अंगद के संग लेन गए सिय,

खोज कपीस यह बैन उचारो I

जीवत ना बचिहौ हम सो जु,

बिना सुधि लाये इहाँ पगु धारो I

हेरी थके तट सिन्धु सबे तब,

लाए सिया-सुधि प्राण उबारो I – ३

जब सीता माता की जानकारी लेने के लिए आप अंगद और अन्य लोगों के साथ गए। समुद्र के किनारे पर जब अंगद ने कहा, “अगर हम सीता माता की जानकारी के बिना वापस लौट आए तो हम जीवित नहीं रहेंगे।” वहाँ सभी थक कर मर गए और फिर आप सीता माता की आवश्यक जानकारी ले आए। आपने पूरी सेना की जान बचाई। इस संसार में कौन नहीं जानता कि आपका नाम संकट मोचन हनुमान है (बाधाओं का निवारण करने वाले)। जो अपने प्रकाश (ज्ञान) द्वारा अज्ञान (अंधकार) को दूर करते हैं।

रावण त्रास दई सिय को सब ,

राक्षसी सों कही सोक निवारो I

ताहि समय हनुमान महाप्रभु ,

जाए महा रजनीचर मरो I

चाहत सीय असोक सों आगिसु ,

दै प्रभुमुद्रिका सोक निवारो I – ४

जब रावण ने अपनी महिला दासियो को जो अशोक वाटिका में थे उनको आदेश दिया कि सीता माता को पीड़ा दें। तभी उसी क्षण आप वहां पहुंच गए और उन दुश्मनों को मार डाला। आप ने सीता माता को श्री राम जी की अंगूठी दी और श्रीराम का संदेश दिया। इस वजह से सीता माता में एक नई आशा ने जन्म लिया, जिस वजह से उनका आत्मविश्वास बढ़ा। इस संसार में कौन नहीं जानता कि आपका नाम संकट मोचन हनुमान है (बाधाओं का निवारण करने वाले)। जो अपने प्रकाश (ज्ञान) द्वारा अज्ञान (अंधकार) को दूर करते हैं।

बान लग्यो उर लछिमन के तब ,

प्राण तजे सूत रावन मारो I

लै गृह बैद्य सुषेन समेत ,

तबै गिरि द्रोण सु बीर उपारो I

आनि सजीवन हाथ दिए तब ,

लछिमन के तुम प्राण उबारो I – ५

जब मेघनाथ का एक तीर श्री लक्ष्मण के दिल में लगा। आप सुषेण वैद्य को उनके घर सहित उठा ले आए जिन्होंने आपको संजीवनी बूटी लाने को कहा। जिसे आप अंत में “द्रोण पर्वत” के साथ ले आए। और आपने श्री लक्ष्मण की जान बचा कर उन्हें पुनर्जीवित किया। इस संसार में कौन नहीं जानता कि आपका नाम संकट मोचन हनुमान है (बाधाओं का निवारण करने वाले)। जो अपने प्रकाश (ज्ञान) द्वारा अज्ञान (अंधकार) को दूर करते हैं।

रावन जुध अजान कियो तब ,

नाग कि फाँस सबै सिर डारो I

श्रीरघुनाथ समेत सबै दल ,

मोह भयो यह संकट भारो I

आनि खगेस तबै हनुमान जु ,

बंधन काटि सुत्रास निवारो I – ६

जब रात को श्री राम की सेना गहरी नींद में थी तब रावण ने सांपों द्वारा श्री राम की सेना को बांध लिया था। तब श्री राम की सेना गहरे संकट में आ गई थी। तब आपने राम की सेना को बचाने के लिए गरुड़ को ले आए। और आपने श्री राम के साथ ही पूरी सेना की जान बचाई। इस संसार में कौन नहीं जानता कि आपका नाम संकट मोचन हनुमान है (बाधाओं का निवारण करने वाले)। जो अपने प्रकाश (ज्ञान) द्वारा अज्ञान (अंधकार) को दूर करते हैं।

बंधू समेत जबै अहिरावन,

लै रघुनाथ पताल सिधारो I

देबिन्हीं पूजि भलि विधि सों बलि ,

देउ सबै मिलि मन्त्र विचारो I

जाये सहाए भयो तब ही,

अहिरावन सैन्य समेत संहारो I – ७

जब अहिरावण और उसके भाई ने श्री राम और लक्ष्मण का अपहरण कर उन्हें पाताल लोक ले गए, जहां पर वे मानव बलिदान के लिए किए जाने वाले सारे रस्मों को समाप्त कर चुके थे। तभी आप वहां पर प्रकट हुए और आपने अहिरावण का वध किया। और आपने श्री राम और लक्ष्मण की जान फिर से बचाई। इस संसार में कौन नहीं जानता कि आपका नाम संकट मोचन हनुमान है (बाधाओं का निवारण करने वाले)। जो अपने प्रकाश (ज्ञान) द्वारा अज्ञान (अंधकार) को दूर करते हैं।

काज किये बड़ देवन के तुम ,

बीर महाप्रभु देखि बिचारो I

कौन सो संकट मोर गरीब को ,

जो तुमसे नहिं जात है टारो I

बेगि हरो हनुमान महाप्रभु,

जो कछु संकट होए हमारो I – ८

आपने देवताओं / देवी और यहां तक कि सर्वशक्तिमान श्री राम के लिए महान कार्य किए हैं, हे मेरे परमदेव! मुझे एक तरह से देखो, और मुझे बताएं (सूचित करें) कि कौन-सी बाधाएँ आपकी नज़र से नहीं हटतीं, आपकी नज़र मुझे किसी भी असंभव कार्य को करने के लिए वास्तविक समर्पण और धैर्य प्रदान कर सकती है | हे मेरे परमदेव! मैं आपसे किसी भी बाधा को दूर करने के लिए कहता हूं क्योंकि आप मेरे गुरु हैं। इस संसार में कौन नहीं जानता कि आपका नाम संकट मोचन हनुमान है (बाधाओं का निवारण करने वाले)। जो अपने प्रकाश (ज्ञान) द्वारा अज्ञान (अंधकार) को दूर करते हैं।

दोहा

लाल देह लाली लसे , अरु धरि लाल लंगूर I

वज्र देह दानव दलन , जय जय जय कपि सूर II

आपका शरीर लाल है और आपके पास ज्ञान की ज्योत है जिससे पूरी दुनिया रोशन हो रही है |जब आप लंका में थे , तो आप एक लंबे पूंछ वाले बंदर के रूप में खुद को निर्वासित कर लेते हैं। आपका शरीर वज्र जितना मजबूत है जो किसी भी दुश्मन को मार सकता है, मैं बार-बार आपका ध्यान करता हूं हे भगवान |

Sankat mochan hanuman
Sankat mochan hanuman

Sankat mochan hanuman ashtak का पाठ करने से हनुमान जी बहुत प्रसन्न होते हैं और अपने भक्तों की हर मनोकामना को अति शीघ्र पूरा करते हैं। वैसे तो हनुमान अष्टक के पाठ को मंगलवार और शनिवार को पढ़ना शुभ माना गया है, पर जब कभी भी आप किसी बड़ी संकट या मुसीबत में फंस जाएं तो संकट मोचन हनुमान अष्टक का पाठ प्रतिदिन 7 बार करना चाहिए और मंगलवार को व्रत भी रखने से अत्यधिक लाभ होता है और हर संकट श्री हनुमान पल में दूर कर देते हैं।

hanuman
sankat mochan hanuman ashtak in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अपनी समस्या का समाधान चाहते है ?

वशीकरण या जीवन की किसी भी समस्या के तांत्रिक समाधान के लिए संपर्क करे तांत्रिक त्रिलोक काल्टा महाराज से 9894632287 पर और पाइये हर समस्या का समाधान.