Hanuman sadhana vidhi. हनुमान साधना मंत्र और नियम.

हनुमान साधना / Hanuman sadhana ki vidhi aur niyam –

Hanuman sadhana vidhi
Hanuman sadhana vidhi

हनुमान साधना / Hanuman sadhana – जैसा कि हम सब जानते हैं इस कलयुग में अगर भगवान भोलेनाथ के बाद कोई देवता है जो अपने भक्तों की हर मनोकामना को अति शीघ्र पूरा करते हैं तो वह है श्री हनुमान, वैसे तो हनुमान जी सिर्फ श्री राम का नाम लेने से ही प्रसन्न हो जाते हैं, लेकिन अगर आपकी कोई बड़ी मनोकामना है या कोई बड़ा संकट है जिससे आप छुटकारा पाना चाहते हैं तो आप हनुमान जी का प्रिय मंत्र और उनकी साधना करके अपने हर संकट से मुक्ति पा सकते हैं और मनोवांछित फल प्राप्त कर सकते हैं ।

यह 100% अटल सत्य है कि यदि आप श्री हनुमान जी की नियम पूर्वक साधना करते हैं तो आपकी हर इच्छा हर मनोकामना हनुमान जी अवश्य पूर्ण करते हैं | यदि आप किसी बड़ी मनोकामना के लिए हनुमान जी की साधना करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको खुद को हनुमान जी को समर्पित करना होगा। मनुष्य चाहे किसी भी देवी या देवता की साधना करें पर उस साधना में सिद्धि प्राप्त करना बहुत ही कठिन कार्य होता है पर यह असंभव नहीं है। यदि मनुष्य सच्चे मन से और दृढ़ संकल्प और पूर्ण पूजा विधि और नियमों का पालन करते हुए साधना करता है तो उसकी साधना अवश्य सिद्ध होती है और उसे अपने साधना का फल भी प्राप्त होता है ।

यह भी पढ़ेहनुमानजी के सबसे शक्तिशाली 06 मंत्र

आज हम आपको हनुमान जी की ही एक ऐसी साधना बताने जा रहे हैं जिसको अगर आप ने सिद्ध कर लिया तो समझ लीजिए इस संसार में बड़े से बड़ा संकट भी आप का कुछ नहीं कर पाएगा।

हनुमान साधना / Hanuman sadhana vidhi –

हनुमान साधना / Hanuman sadhana को हमेशा मंगलवार या शनिवार के दिन से शुरू करना ही सर्वश्रेष्ठ माना गया है, हनुमान साधना को शुरू करने के लिए सबसे पहले आप अपने घर का कोई ऐसा एक कमरा चुन ले जहां पर आपको कोई परेशान ना करें, उसके बाद उस कमरे को गोमूत्र और गंगाजल छिड़ककर अच्छी तरह से पवित्र कर ले, जब आपका कमरा अच्छे से पवित्र हो जाए तो उस कमरे के पूर्व दिशा की तरफ एक चौकी स्थापित करें और उस पर केसरिया रंग का एक कपड़ा लगाएं। अब उस चौकी के ऊपर हनुमान जी का सिद्ध यंत्र और हनुमान जी के प्रतिमा को स्थापित करें और उसकी पूजा अर्चना करें।

Hanuman sadhana siddha yantra
Hanuman sadhana siddha yantra

अब आपने जो चौकी स्थापित की थी उस चौकी की बाई तरफ यानी कि ईशान कोण में एक मिट्टी के कलश को स्थापित करें और उस कलश में पानी भरकर रखें और उस कलश के ऊपर एक पानी वाला नारियल लाल कपड़े में लपेट कर उस कलश के ऊपर स्थापित कर दे। इसके बाद आप स्वयं भी केसरिया रंग का वस्त्र धारण करें और हनुमान जी की चौकी के सामने एक लाल रंग का कपड़ा बिछाकर उसमें बैठ जाएं उसके बाद चौकी के सामने एक घी का दीपक जलाएं और साथ ही अगरबत्ती और धूप भी।

संकल्प कैसे ले –

इतना सब करने के बाद अब आपको साधना शुरू करने से पहले संकल्प लेना पड़ेगा, संकल्प लेने के लिए अपने दाएं हाथ में थोड़ा सा जल ले और इस प्रकार से संकल्प लें की ” है परमपिता परमेश्वर (फिर अपना नाम बोलें) उसके बाद (अपना गोत्र) आप सब की कृपा से मैं हनुमान जी का मंत्र सिद्ध करने जा रहा हूं मुझे मेरी साधना में सफलता प्रदान करें”। इतना कहने के पश्चात आपने अपने दाएं हाथ में जो जल लिया है उसे जमीन पर छोड़ दें और अपने दोनों हाथों से तीन बार जमीन को स्पर्श करते हुए यह मंत्र बोलें “ॐ श्री विष्णवे नमः।”

इसके पश्चात अपने दाएं हाथ में गौमुखी रुद्राक्ष की माला लेकर सबसे पहले एक माला अपने गुरु के नाम की जप करें उसके बाद श्री गणेश जी का मंत्र “ॐ गं गणपतये नमः” इसकी एक माला जप करें।

जब आपका गुरु मंत्र और गणपति मंत्र दोनों की एक – एक माला जप हो जाएगी तब आप भगवान श्री राम और उनके परम भक्त श्री हनुमान का स्मरण करते हुए नीचे दिए गए हनुमान साधना मंत्र / Hanuman sadhana mantra का जाप शुरू कर सकते हैं । शुरू के कुछ दिन तो आप मंत्र जाप बोलकर भी कर सकते हैं, जब बाद में मंत्र अच्छे से स्मरण हो जाए तो मंत्र का उच्चारण मन में भी कर सकते हैं, आप में जितना भी सामर्थ हो उसके हिसाब से आप मंत्र जाप की संख्या तय कर सकते हैं जैसे कि एक माला, तीन माला, पांच माला या इससे अधिक भी कर सकते हैं वैसे तो जो निर्धारित औसत है मंत्र जाप का वह 45 मिनट से डेढ़ घंटे तक का है।

Hanuman sadhana mantra –

ॐ हं हनुमते रुद्रात्मकायं हुं फट्

हनुमान साधना का समय –

किसी भी साधना को करते समय मंत्र जप का जो समय होता है वह बहुत महत्वपूर्ण होता है और हनुमान साधना के लिए मंत्र जाप को जो समय निर्धारित किया गया है वह सुबह 7:15, 8:15, 9:15 यह 10:15 इनमें से कोई भी समय आप निश्चित कर सकते हैं पर ध्यान रहे जो भी समय आप निश्चित करें पूरे 41 दिनों तक उसी समय उस मंत्र जाप को शुरू करना है। एक बात को और विशेष तौर पर ध्यान रखना है कि 41 दिनों तक श्री हनुमान की चौकी को हिलाना नहीं है ना ही उसकी जगह बदलनी है।

जब आप का 41 दिनों का जप संपूर्ण हो जाए तो उसके बाद अपने घर में हवन का आयोजन करें और अधिक से अधिक आहुति हनुमान जी के मंत्र की दें। हवन पूर्ण होने के बाद उस नारियल को कुछ दक्षिणा के साथ किसी हनुमान जी के मंदिर पर चढ़ा आए।

हनुमान साधना (Hanuman sadhana) काल के समय प्रत्येक मंगलवार या शनिवार को किसी भी पास के हनुमान मंदिर में जाकर हनुमान जी को चोला चढ़ाएं और घर में सुंदरकांड का पाठ अवश्य करें, हो सके तो एक डिब्बी में हनुमान जी के चरणों का सिंदूर लाकर रखें और प्रतिदिन साधना शुरू करने से पहले उस सिंदूर से अब स्वयं को तिलक करें।

हनुमान साधना के नियम –

1. हनुमान साधना करते समय हनुमान जी के प्रति अपने मन में सच्ची श्रद्धा और दृढ़ संकल्प रखें

2. साधना के समय प्रतिदिन hanuman mantra जप की संख्या एक ही समान रखें और प्रतिदिन उसी समय जप को शुरू करें |

3. पूरे 41 दिनों तक ब्रम्हचर्य का पालन अवश्य करें |

4. जब भी समय मिले श्री राम का नाम अवश्य लें और ज्यादा से ज्यादा हनुमान जी के भजन सुने |

5. साधना काल के दौरान अपने घर का विशेष तौर पर साफ सफाई का ध्यान रखें और स्वयं भी शुद्ध रहें |

6. साधना के समय केसरिया वस्त्र अवश्य धारण करें और केसरिया वस्त्र धारण करने के बाद ही मंत्र (Hanuman sadhana mantra) जप करें |

7. साधना काल के दौरान अपने मन में कोई भी बुरे विचार या नकारात्मक सोच या किसी के प्रति कोई द्वेष ना लाएं |

ऊपर बताई हुई जितनी भी जानकारी को अगर आप नियम पूर्वक और श्रद्धा पूर्वक करते हैं तो आपकी साधना (Hanuman sadhana) सिद्ध हो जाएगी और आपकी बड़ी से बड़ी मनोकामना या बड़ा से बड़ा संकट हनुमान जी स्वयं हर लेंगे। हनुमान साधना करने के बाद यदि आप अपने गले में हनुमान जी का सिद्ध हनुमान ताबिश को धारण करते हैं तो साधना का प्रभाव और उसका परिणाम कई गुना बढ़ जाता है। इसलिए हो सके तो हनुमान साधना शुरू करने से पहले अपने गले में हनुमान यंत्र यह हनुमान सिद्ध ताबीज को अवश्य धारण करें।

अगर आप में से कई लोग हनुमान यंत्र यह हनुमान सिद्ध ताबीज बनाने की विधि नहीं जानते हैं तो हम अपने अगले पोस्ट में उसकी विधि और पूरी जानकारी बताएंगे।

ऊपर बताई गई हुई हनुमान साधना के विषय में अगर आपको कोई भी जानकारी स्पष्ट नहीं हो पा रही हो तो आप निसंकोच हमें संपर्क कर सकते हैं। 

यह भी पढ़ेहनुमानजी का प्रिय संकट मोचन हनुमानाष्टक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अपनी समस्या का समाधान चाहते है ?

वशीकरण या जीवन की किसी भी समस्या के तांत्रिक समाधान के लिए संपर्क करे तांत्रिक त्रिलोक काल्टा महाराज से 9894632287 पर और पाइये हर समस्या का समाधान.